witnessindia
Image default
Entertainment Lifestyle Social World

सिद्धार्थ मल्होत्रा अपनी अपकमिंग फिल्म “मरजावां” का प्रमोशन जोर-शोरों से कर रहे हैं

मुंबई(ईएमएस)। इन दिनों सिद्धार्थ मल्होत्रा अपनी अपकमिंग फिल्म “मरजावां” का प्रमोशन जोर-शोरों से कर रहे हैं। इस फिल्म से उन्हें काफी उम्मीदें हैं। बता दें ‎कि सिद्धार्थ सोशल मीडिया और लड़कियों के बीच काफी लोकप्रिय हैं। अक्सर उन्हें फिल्म प्रमोशन और पब्लिक प्लेसेज पर मॉब्ड होते देखा गया है। इसके साथ ही लड़कियां उन्हें देख कर चिल्लाना शुरू कर देती हैं और वह भी क्यूटली मुस्कुरा देते हैं। हमने जब उनसे पूछा गया ‎कि ऐसी कौन-सी चीज है, जो उन्हें जमीन से जोड़े रखती है, तो उन्होंने शर्माते हुए कहा, “सच कहूं तो मैं नहीं जानता कि एक स्टार को कैसे बिहेव करना चाहिए? मैं जो हूं, वह छिपा नहीं पाता।

सिद्धार्थ सोशल मीडिया और लड़कियों के बीच काफी लोकप्रिय हैं।

असल में मेरे मूल्य मध्यमवर्गीय परिवार के हैं। मुझे नहीं लगता कि मेरा काम मुझे इतना बदल सकता है कि मैं उड़ने लगूं। मेरी परवरिश मध्यम वर्गीय माहौल में हुई है। मैं दिल्ली से हूं और हमारा एक आम-सा घर है। मुझे ग्राउंडेड रहने के लिए मेहनत नहीं करनी पड़ती। मेरी जिंदगी का एक अहम हिस्सा दिल्ली में आम लड़के के रूप में रहा है। यह स्टारडम मेरे लिए नया है। हालां‎कि अभी 6-7 साल ही हुए हैं कि लोग मेरे साथ सेल्फी लेते हैं और मुझे घेर लेते हैं, ले‎किन मैं यहां इतना जरूर कहना चाहूंगा कि मेरे घरवाले और पुराने दोस्त मुझे जमीन से जोड़े रखते हैं। जब भी मैं घर जाता हूं या उनका फोन आता है, तो वह मुझे स्टार की तरह ट्रीट नहीं करते। हालां‎कि मेरा फिल्मों में काम करना उनके लिए कोई बड़ी बात भी नहीं है।

स्टार को कैसे बर्ताव करना चाहिए
स्टार को कैसे बर्ताव करना चाहिए

वह मेरी फिल्मों को नौकरी की तरह देखते हैं। उनकी चिंता यही होती है कि तेरा काम चल रहा है या नहीं?” इस साथ ही उन्होंने अपने दोस्तों के बारे में कहा ‎कि “मैं अगर अपने दोस्तों की बात करूं, तो ये वो लोग हैं, जो बचपन से मेरे साथ हैं। कुछ दोस्त ऐसे भी हैं, जिनका फिल्मों से कोई लेना-देना नहीं है। यही लोग हैं, जो मुझे लगातार अहसास कराते रहते हैं कि मैं कोई बड़ी तोप नहीं हूं।”

Related posts

मॉस्को में आयोजित अफगान शांति वार्ता में पाकिस्तान लेगा हिस्सा

Publisher

इटली में रोप-वे तारों में उलझा विमान, बाल-बाल बचे पायलट और यात्री

Publisher

आंतकियों का काल बनी सेना, 33 आतंकियों और 11 पाकिस्तानी सैनिकों को किया ढेर

Publisher

Leave a Comment