witnessindia
Image default
Social World

सरसों, तेल तिलहन कीमतों में नाफेड की बिकवाली से रही गिरावट

नई ‎दिल्ली (ईएमएस)। वै‎श्विक बाजारों में सामान्य कारोबार के बीच स्थानीय तेल तिलहन बाजार में बीते सप्ताह सरसों सहित ज्यादातर तेल तिलहन में गिरावट का रुख रहा। दूसरी ओर सस्ते आयात की मांग बढ़ने से पामोलीन में तेजी रही। बाजार सूत्रों ने कहा कि मध्य प्रदेश में नाफेड की सरसों बिकवाली से सोयाबीन इंदौर में 90 रुपए की गिरावट रही। मूंगफली दाना में पिछले सप्ताहांत के मुकाबले जहां पांच रुपए का सुधार दिखा, वहीं मूंगफली मिल डिलिवरी गुजरात का भाव 200 रुपए घटकर 10,300 रुपए क्विन्टल रह गया। मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड भी सप्ताहांत 15 रुपए घटकर 1,845-1,885 रुपए टिन रह गया। वायदा कारोबार में सटोरियों के दबाव में भाव टूटने और सस्ते खाद्य तेलों का आयात बढ़ने से पिछले सप्ताहांत के मुकाबले सरसों की कीमत 30 रुपए की हानि के साथ 3,925-3,850 रुपए प्रति क्विन्टल पर बंद हुई। इसी तरह सरसों दादरी भी पिछले सप्ताहांत के मुकाबले 60 रुपए घटकर समीक्षाधीन सप्ताहांत में 7,840 रुपए प्रति क्विन्टल रह गई।

बाजार सूत्रों ने कहा कि मध्य प्रदेश में नाफेड की सरसों बिकवाली से सोयाबीन इंदौर में 90 रुपए की गिरावट रही।

Mustard, oilseed oil prices fall due to nafed selling

सरसों पक्की घानी और कच्ची घानी के भाव क्रमश: 15-15 रुपए की गिरावट दर्शाते सप्ताहांत में क्रमश:1,265-1,565 रुपए और 1,465-1,615 रुपए प्रति टिन पर बंद हुए। तिल मिल डिलिवरी 200 रुपए के नुकसान के साथ समीक्षाधीन सप्ताहांत में 10,800-16,300 रुपए प्रति क्विन्टल पर बंद हुआ। मिलेजुले कारोबार के बीच जहां सोयाबीन मिल डिलिवरी दिल्ली के भाव 8,050 रुपए प्रति क्विन्टल पर अपरिवर्तित रहे। गुजरात में नाफेड की सरसों बिकवाली से सोयाबीन इंदौर 90 रुपये टूटकर 7,830 रुपए क्विन्टल पर बंद हुआ। दूसरी ओर सोयाबीन डीगम के भाव 20 रुपए सुधार के साथ सप्ताहांत 7,050 रुपए प्रति क्विन्टल पर बंद हुए। सीपीओ एक्स-कांडला का भाव 30 रुपए की हानि के साथ 500 रुपए क्विन्टल पर बंद हुआ। बिनौला मिल डिलिवरी (हरियाणा) का भाव 7,350 रुपए क्विन्टल पर अपरिवर्तित रहा। मलेशिया से पामतेल का आयात सरसों व अन्य तेलों के मुकाबले अधिक सस्ता बैठ रहा है जिसके कारण स्थानीय स्तर पर इसकी खपत निरंतर बढ़ रही है। समीक्षाधीन सप्ताह में पामोलीन आरबीडी दिल्ली और पामोलीन कांडला के भाव क्रमश: 40 रुपए और 20 रुपए बढ़कर क्रमश: 6,860 रुपए और 6,180 रुपए क्विन्टल पर बंद हुए। अन्य खाद्य एवं अखाद्य तेलों सहित मक्का खल भाव पूर्व सप्ताहांत के स्तर पर ही बंद हुए।

Related posts

कॉप-14 सम्मेलन : जलवायु परिवर्तन की बड़ी वजह मरुस्थलीकरण

Publisher

पैकेज्ड फूड और एडड शुगर आपको बना रही है बांझपन का शिकार

Publisher

पर्यटन जैसी आर्थिक गतिविधियों से नागरिकों की आय बढ़ाकर जीवन स्तर सुधारेंगे

Publisher

Leave a Comment