witnessindia
Image default
Economics Law Politics Social World

संकल्प लें कि हम अपनी एकजुटता और संस्कृति को अक्षुण्ण रखेंगे : कमलनाथ

भोपाल (ईएमएस)। मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा है कि हमारी समृद्ध धार्मिक और सांस्कृतिक परंपराओं के प्रति गहन आस्थाओं और उसे मिल-जुलकर मनाने की भावनाओं का ही परिणाम है कि हमारा देश सुरक्षित है और उसकी अखण्डता मजबूत है। उन्होंने कहा कि असत्य पर सत्य की विजय का प्रतीक दशहरे का यह पर्व हम सब लोगों के लिए यह संकल्प लेने का दिन है कि हम अपनी एकजुटता की संस्कृति को न केवल अक्षुण्ण रखेंगे बल्कि इसे और अधिक सुदृढ़ बनाएंगे। श्री नाथ आज पाँच नम्बर स्टाप स्थिति शिवाजी नगर दशहरा उत्सव समिति द्वारा आयोजित रावण दहन समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री नाथ ने समारोह में पहुँचते ही भगवान श्रीराम और लक्ष्मण के प्रतीक चरित्रों की आरती की। उन्होंने स्थापित माँ दुर्गा की झाँकी के दर्शन किए। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कहा कि हमारे देश की एक सबसे बड़ी शक्ति आध्यात्म है। हमारी आध्यात्म, सभ्यता और संस्कृति की ताकत का पूरी दुनिया लोहा मानती है।

मुख्यमंत्री श्री नाथ ने समारोह में पहुँचते ही भगवान श्रीराम और लक्ष्मण के प्रतीक चरित्रों की आरती की।

- मुख्यमंत्री कमल नाथ शिवाजी नगर विजयादशमी समारोह में शामिल हुए
– मुख्यमंत्री कमल नाथ शिवाजी नगर विजयादशमी समारोह में शामिल हुए

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज सबसे बड़ी चिंता यह है कि हमारी यह सांस्कृतिक और अध्यात्मिक एकता की परंपरा, सभ्यता और संस्कार नई पीढ़ी आत्मसात करे। उन्होंने बुजुर्गों और सामाजिक संस्थाओं जागरूक नागरिकों से अपील की कि वे युवाओं और बच्चों को इन संस्कारों से जोड़े और इस मार्ग पर चलने के लिए उन्हें प्रेरित करें। मुख्यमंत्री ने सभी नागरिकों को विजयादशमी की शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि आप लोगों की उपस्थिति बताती है कि आने वाले समय में हमारे देश की एकता, अखण्डता सदैव सुरक्षित रहेगी।

विजय पर्व दशहरा पर पीएम नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्रवासियों को दी शुभकामनाएं

जनसंपर्क मंत्री पी.सी. शर्मा ने कहा कि विजयादशमी पर्व अधर्म पर धर्म की असत्य पर सत्य की विजय का प्रतीक है। मुख्यमंत्री श्री नाथ ने आने वाले पाँच सालों में प्रदेश के विकास और समृद्धि में बाधा उत्पन्न करने वाले हर रावण रूपी बुराईयों को खत्म करने का संकल्प लिया है। समारोह को पूर्व मुख्यमंत्री एवं सांसद दिग्विजय सिंह एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुरेश पचौरी ने भी संबोधित किया। इस मौके पर योगेन्द्र सिंह चौहान गुडडू एवं बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे।

Related posts

मेघालय में सक्रिय उग्रवादी समूह एचएनएलसी को केंद्र सरकार ने प्रतिबंधित किया

Publisher

झारखण्ड को मिलेगा नया विधानसभा भवन

Publisher

2 अक्टूबर तक सिंगल यूज प्लास्टिक उत्पादों पर रोक लगाइए

Publisher

Leave a Comment