witnessindia
Image default
health Lifestyle Science Social

शीशे से बंद घर और दफ्तर में रहने वाले लोगों को होती हैं कई बीमारी

नई दिल्ली(ईएमएस)। शीशे से बंद एयरकंडिशनिंग वाले घर और दफ्तर भले ही आरामदायक महसूस होते हों लेकिन ये आपकी हड्डियों को खोखला बना देते हैं। आधुनिक जीवनशैली का प्रतीक माने जाने वाले ऐसे घर और दफ्तर न केवल ताजा हवा, बल्कि धूप से भी लोगों को वंचित करते हैं, जिस कारण शरीर में विटमिन डी की कमी होती है और हड्डियां कमजोर होती हैं। इसके बारे में नई दिल्ली स्थित इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल के सीनियर बोन सर्जरी स्पेशलिस्ट डॉ. राजू वैश्य ने देश के अलग-अलग शहरों में जोड़ों में दर्द और गठिया के 1 हजार मरीजों पर अध्ययन कर पाया कि ऐसे मरीजों में से 95 प्रतिशत मरीजों में विटमिन डी की कमी होती है और इसका एक मुख्य कारण पर्याप्त मात्रा में धूप न मिलना है, जो विटमिन डी का मुख्य स्रोत है। विशेषज्ञों का कहना है कि दरअसल विटमिन डी का मुख्य स्रोत सूर्य की रोशनी है, जो हड्डियों के अलावा पाचन क्रिया में भी बहुत उपयोगी है। बताया जाता है ‎कि व्यस्त दिनचर्या और आधुनिक संसाधनों के कारण लोग तेज धूप नहीं ले पाते। वहीं बच्चों का भी खुले मैदान में घूमना-फिरना और खेलना भी बंद हो गया है।

विशेषज्ञों का कहना है कि दरअसल विटमिन डी का मुख्य स्रोत सूर्य की रोशनी है, जो हड्डियों के अलावा पाचन क्रिया में भी बहुत उपयोगी है।

शीशे से बंद घर और दफ्तर में रहने वाले लोगों को होती हैं कई बीमारी
शीशे से बंद घर और दफ्तर में रहने वाले लोगों को होती हैं कई बीमारी

इस कारण धूप के जरिए मिलने वाला विटमिन डी लोगों तक नहीं पहुंच पाता। ले‎किन जब भी किसी को घुटने या जोड़ों में दर्द होता है, तो उसे लगता है कि कैल्शियम की कमी हो गई है, जबकि विटमिन डी की ओर किसी का ध्यान नहीं जाता। डॉ. वैश्य ने कहा ‎कि अगर कैल्शियम के साथ-साथ विटमिन डी की भी समय पर जांच करवा ली जाए तो आर्थराइटिस को बढ़ने से रोका जा सकता है। उन्होंने बताया ‎कि बचपन में खानपान की गलत आदतों व कैल्शियम की कमी के कारण आर्थराइटिस के अलावा ऑस्टियोपोरोसिस की भी संभावना बहुत अधिक होती है। इसमें कैल्शियम की कमी के कारण हड्डियों का घनत्व एवं बोन मैरो बहुत कम हो जाता है। साथ ही हड्डियों की बनावट भी खराब हो जाती है, जिससे हड्डियां अत्यंत भुरभुरी और अति संवेदनशील हो जाती हैं। इस कारण हड्डियों पर हल्का दबाव पड़ने या हल्की चोट लगने पर भी वे टूट जाती हैं। इस पर डॉ वैश्य का सुझाव है कि बड़ी उम्र में होने वाले इस रोग से बचपन में ही बचाव किया जा सकता है। बता दें ‎कि बच्चों को खासकर किशोरावस्था में प्रतिदिन 1200 से 1300 मिलीग्राम कैल्शियम दिया जाए तो वे इस बीमारी से बच सकते हैं।

Related posts

‘मरजावां’ के अपने किरदार में जान डालने ‘बार’ जाती थीं रकुल प्रीत सिंह

Publisher

मयंक अग्रवाल की टेस्ट मैचों के लिए खुल सकते हैं वनडे के दरवाजे

Publisher

कविता कौशिक उर्फ ‘चंद्रमुखी चौटाला’ ने पोस्ट की फोटो और खुद को बताया ‘बंदरिया’

Publisher

Leave a Comment