witnessindia
Image default
Education Lifestyle Social Tech World

शिक्षक दिवस पर गूगल ने शिक्षकों समर्पित किया डूडल, छिपा है खास संदेश

नई दिल्ली (ईएमएस)। शिक्षक दिवस के मौके पर गूगल ने डूडल बनाकर एक खास संदेश देने की कोशिश की है। इस डूडल में एक ऑक्टोपस समुद्र के अंदर शिक्षक बनकर मछलियों को गणित और दूसरे हाथ से केमेस्ट्री पढ़ा रहा है साथ ही तीसरे हाथ कई मछलियों से उनकी आंसर शीट लेता हुआ दिखाई दे रहा है। इस चित्र के माध्यम से यह संदेश देने की कोशिश की गई है कि एक शिक्षक की हमारे जीवन में बहुआयामी भूमिका होती है। शिक्षक हमारे जीवन को कई तरह से प्रभावित करता है। भारतीय परंपरा में वैसे भी शिक्षका दर्जा सबसे ऊपर रहा है। जब देश में गुरुकुल परंपरा लागू थी तो उस समय शिक्षक ही समाज को दिशा का देने का काम करते थे। वह न सिर्फ लोगों को ज्ञानवान बनाते थे बल्कि राजनीतिक और समाजिक मामलों में भी नीतियां भी तय करते थे।

 

Google dedicates doodle on teachers day

शिक्षक दिवस के मौके पर गूगल ने डूडल बनाकर एक खास संदेश देने की कोशिश की है।

आचार्य चाणक्य इसका सबसे बड़ा उदाहरण हैं। चाणक्य ने ब्राह्मण होते हुए सभी वर्जनाओं को तोड़कर एक समान्य बालक के अंदर राजा का विकास किया जो उस समय की जाति व्यवस्था में निचली जाति से आता था। यही बालक आगे चलकर चंद्रगुप्त मौर्य के नाम से प्रतापी राजा बना। भारत के इतिहास में उसके वंश के कार्यकाल को मौर्य वंश के नाम से जाना जाता है। गौरतलब है कि पांच सितंबर की तिथि का भारत में एक खास महत्व है। दरअसल यह देश के दूसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन है और उन्हीं के सम्मान में इस दिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। 5 सितम्बर 1888 को तमिलनाडु में जन्मे डा. राधाकृष्णन देश के दूसरे राष्ट्रपति थे और उन्हें भारतीय संस्कृति के संवाहक, प्रख्यात शिक्षाविद्, महान दार्शनिक और एक आस्थावान हिन्दू विचारक के तौर पर जाना जाता है। पूरे देश को अपनी विद्वता से अभिभूत करने वाले डा. राधाकृष्णन को भारत सरकार ने सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से अलंकृत किया था।

Related posts

पुलवामा जैसी घटना दोहराने की साजिश, सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट

Publisher

बच्चों को नोटबुक, पेन, पेन्सिल के साथ बाँटी शिक्षण साम्रगी

Publisher

महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना में हिस्सेदारी को लेकर खींचतान

Publisher

Leave a Comment