witnessindia
Image default
Law Politics Social World

शांति सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था हेतु जिले में धारा 144 लागू

अशोकनगर (ईएमएस)। माननीय उच्चतम न्यायालय में प्रचलित आयोध्या प्रकरण में हिंदू एवं मुस्लिम पक्षकारों के मध्य सुनवाई पूर्ण हो चुकी है जिसमें शीघ्र ही निर्णय दिया जाना अपेक्षित है। यह प्रकरण उभय पक्षों की भावनाओं से जुडा होने के कारण अत्यंत संवेदनशील है। मान. उच्चतम न्यायालय द्वारा किसी एक पक्ष में निर्णय पारित होने की स्थिति में दूसरे पक्ष द्वारा भावनात्मक उत्तेजनाओं के चलते कानून व्यवस्थाओं एवं साम्प्रदायिक सौहार्द्र को प्रभावित किया जा सकता है। जिससे जिले में शांति, सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था को खतरा उत्पन्न होने के साथ-साथ मानव जीवन एवं लोक संपत्ति की क्षति होने की पूर्ण संभावना है। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट डॉ. मंजू शर्मा द्वारा दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 144 के अन्तर्गत प्रदत्त शक्तियों का उपयोग करते हुए जिला अशोकनगर की संपूर्ण राजस्व सीमा क्षेत्र में 06 नबम्वर 2019 से अन्य आदेश होने लागू रहेगा। जारी आदेश के तहत जिले में लोक प्रशांति बनाए रखने एवं मानव जीवन की सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए आग्नेय शस्त्रों एवं अन्य घातक धारदार हथियारों, लाठी, बल्लम, फर्शा, सोडा वाटर, कांच की बोतल, ईंटो के टुकडे, पत्थर, पेट्रोल, एसिड एवं अन्य समस्त प्रकार के ज्वलनशील पदार्थों को साथ लेकर चलने एवं इनके प्रदर्शन को प्रतिबंधित किया जाता है।

कोई भी व्यक्ति सक्षम अधिकारी की पूर्व अनुमति लिये बगैर किसी भी प्रकार के ध्वनि विस्तारक यंत्रों का उपयोग नहीं करेगा।

जिले की संपूर्ण राजस्व सीमाओं में कोई भी व्यक्ति/सामाजिक संस्था या संगठन सक्षम अधिकारी से पूर्व अनुमति लिये बगैर किसी भी प्रकार का विरोध/धरना प्रदर्शन, चक्काजाम, रैली, वाहन रैली, जुलूस, सामूहिक प्रदर्शन आदि नहीं करेगा। और न ही किसी भी प्रकार की सार्वजनिक/निजी/शासकीय सम्पत्ति को नुकसान पहुंचायेगा। कोई भी व्यक्ति सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, व्हॉटस्ऐप, इंस्टाग्राम, टविटर एवं अन्य सोशल मीडिया साईट्स आदि के माध्यम से आपत्तिजनक संदेश, भडकाऊ चित्र, वीडियो एवं आडियो मैसेज प्रेषित नहीं करेगा और न ही इस प्रकार के संदेशों को फॉरवर्ड करेगा। कोई भी व्यक्ति सोशल मीडिया पर धार्मिक/सामाजिक/व्यक्तिगत/जाति या संप्रदाय से संबंधित आपत्तिजनक एवं अश्लील संदेशों को प्रेषित नहीं करेगा। जिले की संपूर्ण राजस्व सीमाओं में सार्वजनिक स्थानों, निगम/मंडल या किसी भी शासकीय कार्यालय आदि पर किसी भी प्रकार की भीड एकत्रित नहीं होगी। कोई भी व्यक्ति धार्मिक/सामाजिक स्थलों अथवा अन्य सार्वजनिक स्थानों पर किसी भी प्रकार की राजनैतिक चर्चा, टिप्पणी, कमेंट आदि नहीं करेगा और न ही भडकाऊ भाषण देगा। जिले में स्थित समस्त होटल, धर्मशाला, लॉज के संचालक यह सुनिश्चति करेगें कि – अपने परिसर में स्थित कक्षों को किसी भी व्यक्ति को सौंपने से पूर्व संबंधित व्यक्ति की पूर्ण जानकारी निर्धारित प्रारूप एवं पंजी में दर्ज करते हुए यह जानकारी प्रतिदिन निकटतम थाने में भिजवाना सुनिश्चति करेगें। साथ ही संदिग्ध व्यक्तियों की जानकारी निकटतम थाने एवं पुलिस कंट्रोल रूम में नोट करायेंगे।

शांति सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था हेतु जिले में धारा 144 लागू
शांति सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था हेतु जिले में धारा 144 लागू

जिले के समस्त मकान मालिक अपने मकान या उसका कोई भी भाग किराये पर देने से पूर्व, किरायेदार का संपूर्ण विवरण निकटतम पुलिस थाने में अनिवार्य रूप से प्रस्तुत करेगें। जिले के समस्त छात्रावास संचालक, शासकीय एवं निजी भवनों में संचालित छात्रावासों में निवासरत सभी छात्र/छात्राओं की जानकारी संबंधित पुलिस थाने में अनिवार्य रूप से प्रस्तुत करेंगे। जिले के समस्त निर्माणकर्ता, भवनों के निर्माण कार्य में लगे मजदूरों/कारीगरों की जानकारी संबंधित पुलिस थाने में प्रस्तुत करना सुनिश्चति करेगें। कोई भी व्यक्ति सक्षम अधिकारी की पूर्व अनुमति लिये बगैर किसी भी प्रकार के ध्वनि विस्तारक यंत्रों का उपयोग नहीं करेगा। कोई भी व्यक्ति/संस्था/संगठन, सक्षम अधिकारी की पूर्व अनुमति लिये बगैर किसी भी प्रकार के धार्मिक, राजनैतिक, सामाजिक आदि श्रेणी के होर्डिंग/विज्ञापन, कटआऊट आदि का प्रयोग नहीं करेगें। साथ ही ऐसे पंपलेटस का वितरण नहीं करेगें जिससे सामाजिक सौहार्द्र खराब होने की संभावना हो। आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति/संस्था/संगठन पर भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत नियमानुसार कार्यवाही की जावेगी।

Related posts

“कुली नं.1” में करिश्‍मा के ऑरिजनल कैरक्‍टर को मॉडर्न ट्विस्‍ट दिया: सारा

Publisher

रोहिंग्या शरणार्थियों और तीस्ता नदी मुद्दों पर मोदी-हसीना में चर्चा

Publisher

विराट सबसे अधिक दोहरे शतक लगाने वाले भारतीय बल्लेबाज बने

Publisher

Leave a Comment