witnessindia
Image default
Law Politics Social World

रेत माफियाओं पर कार्रवाई के दौरान पुलिस ने कसा शिंकजा

मुरैना (ईएमएस)। जिले में अवैध रेत उत्खनन को रोकने के लिए पुलिस ने मंगलवार की सुबह एक गांव के पास भारी मात्रा में ट्रेक्टर ट्रॉलियों को घेरने का प्रयास किया जहां रेत माफियाओं और पुलिस के बीच काफी देर तक फायरिंग हुई लेकिन किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। पुलिस ने दवंगई से 12 ट्रेक्टर 6 चालकों को गिरफ्तार कर उनकी टे्रक्टर ट्रॉलियां जप्त करने में सफलता हांसिल की है। विदित हो कि जिला मुख्यालय के पूर्वी ओर बडोखर की तरफ रेत की एक अवैध मण्डी प्रारंभ हो गई थी जिसके कारण वहां के लोगों का जीवन यापन भी प्रभावित हो रहा था। दूसरी तरफ गोसपुरा, चेटा बरेथा से एक नया रास्ता पैदा कर रेत माफियाओं ने भारी मात्रा में रेत का अवैध उत्खनन प्रारंभ कर दिया था, इतना ही नहीं पुलिस को चुनौती देते हुए रेत माफिया ने पिछले छ: माह में दो घटनाओं को भी अंजाम दिया जिसमें एक स्कूली छात्रा और एक युवक की दर्दनाक मौत हुई।

12 टे्रक्टर और 6 आरोपी गिरफ्तार

पुलिस अधीक्षक असित यादव ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आसुतोष बागरी, सीएसपी सुधीर सिंह कुशवाह के साथ वनविभाग की टीम को सिर्फ कॉन्फीडेंस में लेकर सुबह तडके एक संग दर्जनों टे्रक्टर ट्रॉलियां ग्राम चेटा बरेथा से होकर निकल रहीं थी जहां पुलिस ने चोरो ओर से उन्हें घेर लिया। पुलिस से घिरा मानकर रेत माफिया अपने ट्रेक्टर ट्रॉली कुछ वापिस उसी रास्ते से भाग गए और जिन रेत माफियाओं को पुलिस ने घेरे में लिया वो रेत माफिया पुलिस से बचने के लिए फायरिंग करने लगे। पुलिस ने भी हवाई फायर कर उनके हौंसले परस्त करने का फण्डा अपना जिसमें पुलिस ने 12 टे्रक्टर ट्रॉली रेत से भरी हुई और पांच आरोपियों को भी गिरफ्तार किया है। पुलिस ने कार्यवाही करने के बाद यह मामला वन विभाग को सौंप दिया है। वन विभाग रेत माफियाओं के विरूद्ध कानूनी कार्यवाही को अंजाम दे रहा है।

रेत माफियाओं पर कार्रवाई के दौरान पुलिस ने कसा शिंकजा
रेत माफियाओं पर कार्रवाई के दौरान पुलिस ने कसा शिंकजा

-योजनावद्ध तरीके से की कार्रवाई
आज सुबह एएसपी आशुतोष बागरी के नेतृत्व में एक सैकड़ा से अधिक पुलिस के जवानों ने कार्रवाई को अंजाम दिया। पुलिस की टीम आज सुबह प्राइवेट वाहनों में रेत माफियाओं पर कार्रवाई करने पहुंची। फोर्स को डम्परों में ले जाया गया वहीं अन्य थानों की पुलिस भी अधिकांश निजी वाहनों से बरेथा पहुंची। हालांकि कुछ अधिकारी सरकारी वाहन से भी पहुंचे। रेत माफियाओं को अंदेशा न हो इस बजह से डम्परों में पुलिस बल को ले जाया गया। कई दिनों से रेत माफियाओं के होंसले काफी बुलंद थे और वे लगातार घटनाओं को अंजाम भी दे रहे थे। तीन माह पहले बड़ोखर के पास रेत से भरे ट्रेक्टर ने बच्ची को टक्कर भी मारी थी जिसके बाद एसपी ऑफिस के सामने एक युवक को रेत माफियाओं द्वारा कुचल दिया गया था साथ ही स्कूली वाहन में टक्कर सहित वनकर्मियों पर भी माफियाओं ने हमला बोला था।

एक दर्जन टे्रक्टर और 6 लोगों को लिया हिरासत
रेत माफियाओं पर कार्रवाई के दौरान पुलिस ने 12 ट्रेक्टरों सहित 6 लोगों को हिरासत में लिया है। पुलिस ने ट्रेक्टर ट्रॉलियों को लाते समय काफी सावधानी भी बरती । क्यों कि कई बार रेत माफिया अपने लोगों को छुडाने के लिए हमला भी बोल देते हैं। पुलिस जब रेत से भरे ट्रेक्टर ट्रॉलियों और छ: लोगों को पकड़ कर ला रही थी उस दौरान आगे पुलिस के वाहन और बीच में ट्रेक्टर ट्रॉली और फीर पीछे पुलिस के वाहन चल रहे थे जिससे रेत माफिया अपने लोगों को छुड़ा नहीं पाये।

-रेत माफियाओं के कई ठिकाने हैं पुलिस की लिस्ट में
अवैध रेत उत्खनन के मामले में पुसिल ने बडी कार्यवाही कर सफलता हांसिल की है लेकिन ऐसी कार्यवाही थाना सरायछौला के एरिया में पुलिस करने की योजना तैयार करे तो रेत माफियाओं पर अंकुश लगाया जा सकता है। लेकिन लगातार घटनाएं बडोखर के क्षेत्र में हो रही थी इसलिए पुलिस ने उसी इलाके को टारगेट बनाया। लेकिन रेत की कार्यवाही में पुलिस के पास जिले मेंं अभी काफी ऐसे क्षेत्र हैं जहां थाने के सामने से रेत से ट्रेक्टर ट्रॉली सबलगढ के अटार घाट, थाना देवगढ के गुर्जा तथा सरायछौला के भानपुर, जाहर, जतावर के नीचे से भी रेत का अवैध उत्खनन जारी है।

Related posts

बुलबुल चक्रवाती तूफान से पश्चिम बंगाल में 10 की मौत हो चुकी

Publisher

अमेरिका के ह्यूस्टन में ‘हाउडी मोदी’ का विशाल जलसा रविवार को

Publisher

भारतीय वायु सेना को सौंपे गए तीन और राफेल जेट विमान

Publisher

Leave a Comment