witnessindia
Image default
Law Politics Social World

राष्ट्रपति कोविंद ने फिलीपींस में राष्ट्रपिता बापू की प्रतिमा का किया अनावरण

मनीला (ईएमएस)। भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने यहां राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर उनकी प्रतिमा का अनावरण किया। कोविंद ने उम्मीद जताई कि आने वाली पीढ़ी करुणा, सच्चाई और सिद्धांतों की उनकी विरासत से प्रेरणा लेगी। कोविंद ने मनीला के मिरियम कॉलेज में सेंटर फॉर पीस एजुकेशन में एक कार्यक्रम में शिरकत की। वह दक्षिणपूर्वी एशियाई देशों की पांच दिवसीय यात्रा पर हैं। इस अवसर पर कोविंद ने कहा, ‘साहसी जोस रिजाल की भूमि फिलीपींस पर गांधी की प्रतिमा का अनावरण करके मैं आज सम्मानित महसूस कर रहा हूं। मैं मिरियम कॉलेज को अपने परिसर में महात्मा गांधी को सम्मानित स्थान देने के लिए शुक्रिया अदा करता हूं।

भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने यहां राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर उनकी प्रतिमा का अनावरण किया।

राष्ट्रपति कोविंद ने फिलीपींस में राष्ट्रपिता बापू की प्रतिमा का किया अनावरण
राष्ट्रपति कोविंद ने फिलीपींस में राष्ट्रपिता बापू की प्रतिमा का किया अनावरण

’ उन्होंने कहा, ‘महात्मा गांधी की प्रतिमा भारत के लोगों की ओर से आपके लिए उपहार है। लेकिन महात्मा सब के हैं, सभी संस्कृतियों और समाजों के हैं। शांति, सौहार्द, तथा सभी के सतत विकास की हमारी साझा यात्रा में वह हमारा मार्गदर्शन करें।’ राष्ट्रपति ने गांधी और रिजाल के बीच समानताओं को रेखांकित करते हुए कहा कि दोनों नेता शांति और अहिंसा की शक्ति पर विश्वास करते थे। उन्होंने कहा, ‘नई दिल्ली में आपके राष्ट्रीय प्रणेता के नाम पर एक एवेन्यू हमें प्रेरणा देता है।’ उन्होंने दोनों देशों के बीच संबंधों को विशेष बताया और कहा,‘आपके देश और आपके लोगों के बीच हमारे संबंध न सिर्फ विशेष हैं बल्कि हमारे दिल के नजदीक हैं। यह ऐसी मित्रता है जिसका हम जश्न मनाते हैं।’ उन्होंने गांधी की विरासत का जश्न सेन्टर फॉर पीस एजुकेशन में मनाने की भी सराहना की। यह केन्द्र शिक्षा के जरिए शांति की संस्कृति को बढ़ावा देता है।

Related posts

ई सिगरेट पर लगाया गया बैन मोदी सरकार की कैबिनेट बैठक में हुए 2 अहम फैसले

Publisher

पीएम या सीएम अदालत का फैसला मानने के लिए बाध्य: कोर्ट

Publisher

देश में जीडीपी ग्रोथ में कमी चिंता नहीं : पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

Publisher

Leave a Comment