witnessindia
Image default
national Social World

नियम विरुद्ध चल रहे मैरिज गार्डनों पर प्रशासन की कार्रवाई

अशोकनगर (ईएमएस)। शहर के जिन मैरिज गार्डन संचालकों द्वारा प्रशासन के निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है, उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है। प्रशासन ने बिना वाहन पार्किंग, परमीशन लेटर के चल रहे तीन मैरिज गार्डनो को सील किया गया है। शुक्रवार को एसडीएम और तहसीलदार ने संयुक्त टीम के साथ मैरिज गार्डनो की जांच पड़ताल की गई। इस दौरान टीम द्वारा जब गुना रोड़ स्थित स्वामी मैरिज गार्डन एवं राजश्री मैरिज गार्डन संचालकों से दस्तावेज मांगे गए तो गार्डन संचालक के पास कोई दस्तावेज प्राप्त नहीं हुए। एसडीएम सुरेश जाधव ने बताया कि क्षेत्र में बिना लाइसेंस व शुल्क जमा कराए संचालित 3 मैरिज गार्डनों पर कार्रवाई की है। जिनमें स्वामी मैरिज गार्डन, राजश्री मैरिज गार्डन व संस्कृतिक मैरिज गार्डन शामिल हैं। इन गार्डन संचालकों से जब परमीशन लेटर, एनओसी और डायवर्सन दिखाने को कहा गया तो संचालक संबंधित दस्तावेज नहीं दिखा पाए। इसके अलावा गार्डन संचालकों के पास वाहन पार्किंग की भी सही व्यवस्था नहीं होने के कारण कार्रवाई की गई है। एसडीएम ने बताया कि आंगे भी कार्रवाई जारी रहेगी। सभी मैरिज गार्डनों का संचालन करने वालों से वैध दस्तावेज जांचे जाएंगे, इसमें यह भी देखा जाएगा कि संचालकों ने जमीन का डायवर्सन कराया है या नहीं। अगर बिना डायवर्सन व नियमों के अनुसार मैरिज गार्डन संचालित होते नहीं मिले तो उनको सील कर दिया जाएगा। जांच के दौरान वाहनों की पार्किंग के लिए गार्डन संचालक के पास निर्धारित जगह है या नहीं, इसको भी जांचा जाएगा। जिस गार्डन के बाहर सडक़ पर वाहनों की पार्किंग मिलेगी, उसके खिलाफ भी कार्रवाई होगी। कार्रवाई के दौरान एसडीएम सुरेश जाधव, तहसीलदार इशरार खान, नायब तहसीलदार रोहित रघुवंशी, नायब तहसीलदार दीपेश धाकड़ सहित पटवारी मौजूद रहे।

वाहन पार्किंग एवं डायवर्सन न दिखाने पर तीन गार्डन सील, गार्डन संचालको में मचा हडक़ंप

-अवैध रूप से संचालित हो रहे कई गार्डन:
वैवाहिक आयोजनों के लिए मैरिज गार्डन संचालकों द्वारा भारी शुल्क लिया जाता है। लेकिन क्या ये मैरिज गार्डन नियम अनुसार संचालित हो रहे है। गौर करने वाली बात यह है कि रहवासी क्षेत्र के साथ ही कालोनियों में भी बिना अनुमति के मैरिज र्गाडन संचालित किया जा रहा है। जिनका किराया हजारों से लेकर लाखों रुपया रोज होता है। यह रुपया मैरिज गार्डन वाले सुविधा एवं पर्याप्त इंतजाम व सुरक्षा के नाम पर वसूल रहे हैं। बावजूद इसके इन मैरिज गार्डन संचालकों सुविधाएं नहीं दी जा रही है। शहर में कई ऐसे मैरिज गार्डन भी हैं, जो अवैध रूप से संचालित हो रहे हैं।

नियम विरुद्ध चल रहे मैरिज गार्डनों पर प्रशासन की कार्रवाई
नियम विरुद्ध चल रहे मैरिज गार्डनों पर प्रशासन की कार्रवाई

-यह हैं नियम:
शादी विवाह स्थल के लिए भूखंड, भवन आदि का उपयोग करने के लिए नगर पालिका में रजिस्ट्रेशन कराना आवश्यक है। परिसर में मापदंडों के अनुसार अग्रिशमन यंत्र होना जरूरी है। इसके अलावा प्रवेश एवं निकासी के लिए दो अलग-अलग रास्तों का होना भी जरूरी है। पार्किंग के लिए अलग से व्यवस्था हो। इसके अलावा प्लॉट एरिया, ग्राउंड कवरेज, रहवासी क्षेत्र न होना आदि नियम भी है।

-इस तरह होगी पार्किंग:
किसी भी सार्वजनिक स्थल, सडक़ या मैदान में पार्किंग पर प्रतिबंध रहेगा। वाहनों की व्यवस्था और सही तरीके से पार्किंग कराने के लिए गार्डन संचालक को स्वयं के खर्च पर कम से कम तीन गार्ड रखने होंगे। परिसर के दूसरे स्थानों पर सुरक्षा को चौकस रखने के लिए अलग से गार्ड रखने पड़ेंगे। आयोजन के दौरान कोई भी ऐसा कार्य न हो जिससे आमजन को असुविधा हो। ध्वनि प्रदूषण फैलाने वाले यंत्रों का उपयोग नहीं होगा। बारात के स्वागत का स्थान परिसर के अंदर ही रहेगा।

Related posts

नहीं चला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मैजिक, जहां पीएम गए बेड़ा गर्क

Publisher

डॉलर के मुकाबले रुपया 12 पैसे की बढ़त के साथ 71.20 के स्तर पर खुला

Publisher

देश के प्रथम प्रधानमंत्री नेहरू की जंयती पर मोदी, मनमोहन और सोनिया ने दी श्रद्धांजलि

Publisher

Leave a Comment