witnessindia
Image default
Law national Politics Social World

मुख्य न्यायाधीश शरद बोबडे बोले- न्याय खर्चीला, सभी की पहुंच नहीं

नागपुर (ईएमएस)। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस अरविंद शरद बोबडे ने शनिवार को कहा कि ऊंची कानूनी लागत न्याय पाने की राह में अहम रोड़ा है। साथ ही उन्होंने वकीलों की भारी-भरकम फीस का भी जिक्र करते हुए कहा कि उन्हें भी मध्यस्थ के तौर पर अपनी भूमिका पर विचार करने की जरूरत है न केवल पैसा भुगतान के बदले दलील रखने की। उन्होंने कहा कि हमें पूर्व कानूनी मध्यस्थता की शुरुआत करने की जरूरत है। नागपुर के मूल निवासी सीजेआई बोबडे को हाईकोर्ट बार एसोसिएशन द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में पूर्व सीजेआई आरएम लोढ़ा ने सम्मानित किया।

पूर्व कानूनी मध्यस्थता की शुरुआत करने की जरूरत है।

मुख्य न्यायाधीश शरद बोबडे बोले- न्याय खर्चीला, सभी की पहुंच नहीं
मुख्य न्यायाधीश शरद बोबडे बोले- न्याय खर्चीला, सभी की पहुंच नहीं

जस्टिस बोबडे ने 18 नवंबर को ही सीजेआई का पदभार संभाला है। उन्होंने कहा कि कई ऐसी चीजें हैं जिन्हें सुधारने की जरूरत है। इनमें से एक न्याय तक पहुंच है। उन्होंने कहा कि जाहिर तौर, किसी को किसी के धन कमाने से शिकायत नहीं होती है लेकिन कृपया इसे समझें कि जब यह अदालतों में होता है तो यह न्याय की पहुंच में बाधा खड़ी करता है और यह गंभीर खामी है। राष्ट्रपति ने भी हाल ही में जोधपुर में कहा था कि न्याय की लागत आम लोगों की पहुंच से बाहर हो गई है।

Related posts

जामिया और एएमयू में छात्रों के हिंसक प्रदर्शन पर सुप्रीम कोर्ट सख्त रुख

Publisher

भारत-वेस्ट इंडीज की टीमें पहले एकदिवसीय के लिए चेन्नई पहुंचीं

Publisher

समय से बिस्तर पर जाने वाले बच्चे होते हैं स्वस्थ – मोटापे की संभावना भी रहती है कम

Publisher

Leave a Comment