witnessindia
Image default
Education Science Social Tech World

मिल गया विक्रम, कम्युनिकेशन स्थापित करने की कोशिश जारी

बेंगलुरु (ईएमएस)। चांद की सतह पर लैंडर विक्रम की सटीक लोकेशन का पता लगा लिया गया है। ऑर्बिटर ने विक्रम लैंडर की एक थर्मल इमेज भी क्लिक की है। इस बात की जानकारी खुद इसरो के चेयरमैन के सिवन ने दी है। इसरो प्रमुख ने कहा कि हालांकि लैंडर विक्रम से अभी तक संपर्क नहीं हो पाया है। उन्होंने कहा, टीम लैंडर विक्रम से कम्युनिकेशन स्थापित करने की लगातार कोशिश कर रही है। इसरो प्रमुख ने यह भी कहा कि इमेज से यह साफ नहीं हो सका है कि विक्रम चांद की सतह पर किस हालत में है। इसरो की एफएसी टीम यह पता लगाने में जुटी है कि आखिर किन वजहों से लैंडर का संपर्क इसरो कमांड से टूट गया था। बता दें कि इसरो के वैज्ञानिकों ने इसके पहले कहा था कि अगले 3 दिनों में विक्रम कहां और कैसे है, इसका पता चल सकता है। सीनियर साइंटिस्ट ने बताया था,3 दिनों में लैंडर विक्रम के मिलने की संभावना है।

सीनियर साइंटिस्ट ने बताया था,3 दिनों में लैंडर विक्रम के मिलने की संभावना है।

isro chairman k sivan

 

इसकी वजह यह है कि लैंडर से जिस जगह पर संपर्क टूटा था, उसी जगह पर ऑर्बिटर को पहुंचने में 3 दिन लगने है। हमें लैंडिंग साइट की जानकारी है। आखिरी क्षणों में विक्रम अपने रास्ते से भटक गया था, इसलिए हमें ऑर्बिटर के 3 उपकरणों एसएआर (सिंथेटिक अपर्चर रेडार),आईआर स्पेक्ट्रोमीटर और कैमरे की मदद से 10 x 10 किलोमीटर के इलाके को छानना होगा। विक्रम का पता लगाने के लिए हमें उस इलाके की हाई रेजॉलूशन तस्वीरें लेनी होंगी।

 

साढ़े 7 साल तक काम करेगा ऑर्बिटर
इसके अलावा इसरो चीफ के. सिवन ने कहा था कि लैंडर विक्रम के मिलने की अब भी संभावना है। उन्होंने कहा, ‘ऑर्बिटर की उम्र साढ़े 7 सालों से ज्यादा है, न कि 1 साल, जैसा कि पहले बताया गया था। इसकी वजह है कि उसके पास बहुत ज्यादा ईंधन बचा हुआ है। ऑर्बिटर पर लगे उपकरणों के जरिए लैंडर विक्रम के मिलने की संभावना है।’
शनिवार को लगा था झटका
गौरतलब है कि भारत के चंद्रयान-2 मिशन को शनिवार तड़के उस समय झटका लगा, जब चंद्रमा के सतह से महज 2 किलोमीटर पहले लैंडर विक्रम से इसरो का संपर्क टूट गया। इसरो ने एक आधिकारिक बयान में कहा कि विक्रम लैंडर उतर रहा था और लक्ष्य से 2.1 किलोमीटर पहले तक उसका काम सामान्य था। उसके बाद लैंडर का संपर्क जमीन पर स्थित केंद्र से टूट गया।

 

Related posts

केन्द्रीय मंत्री जावडे़कर का आरोप, दिल्ली में हिसंक प्रदर्शन के पीछे कांग्रेस और आप

Publisher

भारतीय पूर्व बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर से प्रभावित रहे हैं प्रियम गर्ग

Publisher

भूरिया ने केंद्रीय मंत्री रहते इस क्षेत्र को क्या दिया बताएं? : गोपाल भार्गव

Publisher

Leave a Comment