witnessindia
Image default
Law national Politics Social World

महाराष्ट्र मुद्दे पर हंगामे के बीच संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही मंगलवार दो बजे

नई दिल्ली (ईएमएस)। महाराष्ट्र के सियासी संकट पर विपक्षी सदस्यों के भारी हंगामे के बीच संसद के दोनों सदनों लोकसभा और राज्यसभा की कार्रवाई में विपक्षी दलों के सांसदों ने भारी अंडंगे डाले। सोमवार सुबह दस बजे बैठक शुरू होने के करीब दस मिनट बाद ही विपक्षी सदस्यों ने महाराष्ट्र के मुद्दे पर हंगामा शुरु कर दिया। जिसकी वजह से लोकसभा की कार्रवाई पहले दोपहर 12 बजे तक और राज्यसभा की कार्रवाई दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित करनी पड़ी। इसके बाद हुई कार्रवाई के बाद भी जब हंगामा बंद नहीं और सदस्यों ने मार्शल से धक्कामुक्की की तो राज्यसभा और लोकसभा की कार्रवाई मंगलवार दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

सोमवार सुबह दस बजे बैठक शुरू होने के करीब दस मिनट बाद ही विपक्षी सदस्यों ने महाराष्ट्र के मुद्दे पर हंगामा शुरु कर दिया।

भारी नारेबाजी और शोर-शराबे के बीच लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने किसी तरह प्रश्नकाल शुरु कराया, और अनुसूचित जाति और जनजाति के लड़ेक लड़कियों के छात्रावास विषय पर पूरक प्रश्न पूछने केलिए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम पुकारा। इस सत्र में पहली बार सदन में पहुंचे राहुल गांधी से प्रश्न पूछने से इनकार करते हुए कहा कि महाराष्ट्र में लोकतंत्र की हत्या हुई है, ऐसे में मेरे सवाल पूछने का कोई मतलब नहीं है। इस दौरान हंगामा कर रहे कांग्रेस, शिवसेना व राकांपा सांसदों ने स्टाप मर्डर आफ डेमोक्रेसी लिखे पोस्टर लिए हुए लोकसभा अध्यक्ष की आसंदी के पास पहुंच गए और भारी हंगामा बरपाया। लोकसभा अध्यक्ष ने हंगामा कर रहे सदस्यों से शांत होने की बार-बार अपील की, लेकिन उन पर कोई असर नहीं पड़ा। इसी दौरान हंगामा कर रहे कांग्रेस के सांसदों हिबी इडेन, डीएन प्रतापन और मार्शलों के बीच धक्कामुक्की हो गई।

महाराष्ट्र मुद्दे पर हंगामे के बीच संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही मंगलवार दो बजे तक टली
महाराष्ट्र मुद्दे पर हंगामे के बीच संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही मंगलवार दो बजे तक टली

इसके बाद लोकसभा की कार्रवाई को मंगलवार दो बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। उधर, राज्यसभा में भी महाराष्ट्र के मुद्दे को लेकर सांसदों की नारेबाजी और हंगामा जारी रहा, जिसकी वजह से शून्यकाल और प्रश्नकाल नहीं हो पाए। सांसदों के हंगामे की वजह से उच्च सदन की कार्रवाई पहले दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित की गई, लेकिन दो बजे के बाद शुरु हुई कार्रवाई के बाद भी जब हंगामा नहीं बंद हुआ तो उप-सभापति हरिवंश ने राज्यसभा की कार्रवाई को मंगलवार 26 नवंबर दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी। सदन की कार्रवाई स्थगित होने की वजह से कई महत्वपूर्ण विधेयक पेश नहीं किए जा सके और महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा नहीं हो सकी।

Related posts

अधिकारी कर्मचारियों के द्वारा स्वच्छ भारत मिशन के तहत नपा के 11 दुकान पर छापा

Publisher

अपोलो हॉस्पिटल समूह की संयुक्त प्रबंध निदेशक संगीता रेड्डी बनीं फिक्की अध्यक्ष

Publisher

भारत ने 6000 करोड़ रुपए की पहली किस्त चुकाई, जल्द चाहता है एस-400 की डिलीवरी

Publisher

Leave a Comment