witnessindia
Image default
health Science Social World

डायबिटीज के मरीज सीमित मात्रा में खाए आम – नुकसान की जगह होगा फायदा

नई दिल्ली (ईएमएस)। डायबिटीज के मरीज यदि सीमित मात्रा में आम खाए तो उन्हें नुकसान के बजाय फायदा होगा। एक अध्ययन के अनुसार आम में डायबिटीज को कंट्रोल करने के गुण होते हैं। आम में विटामिन ए और फाइबर सामग्री अधिक होती है, इसलिए वे डायबिटीज के रोगियों में आंतरिक अंगों की इंफ्लेमेटरी प्रतिक्रिया को कम कर सकते हैं। इसके अलावा, आम डायबिटीज मरीजों के रक्त में ग्लूकोज के स्तर को बनाए रख सकते हैं, और उन्हें स्पाइकिंग से रोक सकते हैं। इस प्रकार इस बीमारी को नियंत्रण में रख सकते हैं। विशेषज्ञों की माने तो “डायबिटिक लोगों को अपने रक्त ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रण में रखना चाहिए। स्तरों को जांच में रखने के लिए डायबिटिक डाइट का पालन करना चाहिए। इस स्थिति में लोगों को लगभग 15 ग्राम कार्बोहाइड्रेट वाले फल खाना चाहिए। डायबिटीज से पीड़ित लोग 1 स्लाइस या ज्यादा से ज्यादा आधा आम खा सकते हैं।”

आम डायबिटीज मरीजों के रक्त में ग्लूकोज के स्तर को बनाए रख सकते हैं, और उन्हें स्पाइकिंग से रोक सकते हैं।

डायबिटीज के मरीज सीमित मात्रा में खाए आम
डायबिटीज के मरीज सीमित मात्रा में खाए आम

आम में उच्च कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए, मुँहासे को कम करने, नेत्र स्वास्थ्य में सुधार, यौन स्वास्थ्य को सक्षम करने, अम्लता को कम करने, हृदय स्वास्थ्य में सुधार, स्ट्रोक को रोकने आदि के लिए जाना जाता है। इसमें कैंसर को रोकने के लिए गुण पाए गए हैं। पोषण विशेषज्ञ का मानना है कि आम खाने से पाचन तंत्र सही रहता है। आम में भारी मात्रा में फाइबर होता है, इसके अलावा इसमें विटामिन सी भी होता है जो रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाता है। आम एक फल है जो विभिन्न पोषक तत्वों और खनिजों में समृद्ध है। डायबिटीज से पीड़ित लोग हमेशा यही सोचते हैं कि वे आम खाएं या ना खाएं। तो आपको बता दें कि आप आम खा सकते हैं, लेकिन मात्रा सीमित रखनी होगी। डायबिटीज एक ऐसी स्थिति है जिसमें ब्लड शुगर लेवल बहुत अधिक हो जाता है, क्योंकि शरीर पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता है। इसके परिणाम स्वरूप कई नकारात्मक लक्षण उत्पन्न होते हैं।

Related posts

जीत की राह पर वापसी करना चाहेंगी विश्व चैंपियन पीवी सिंधु

Publisher

किसी ने बॉर्डर पार करने की कोशिश की तो वह वापस नहीं जा पाएगा : राजनाथ

Publisher

भारत और चीन मिल कर काम करें तभी एशिया की होगी 21वीं सदी : चीन

Publisher

Leave a Comment