witnessindia
Image default
Education Law Social World

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में पढऩे वाले जेएनयू स्टूडेंट्स को नहीं भाया निर्णय

नई दिल्ली(ईएमएस)। जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में पढऩे वाले छात्रों के एक धड़े को शनिवार को अयोध्या मसले पर सुप्रीम कोर्ट का निर्णय पसंद नहीं आया। देश की सर्वोच्च अदालत में 9 नवंबर (शनिवार) की सुबह चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली 5 जजो की बेंच ने अयोध्या में राम जन्मभूमि पर भगवान राम के लिए एक भव्य मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करते हुए, सर्वसम्मति से अपना फैसला दिया। इस फैसले के बाद जेएनयू विश्वविद्यालय के छात्रों ने अदालत के इस निर्णय पर यूनिवर्सिटी परिसर में विरोध प्रदर्शन किया। हालांकि छात्रों के इस धड़े के विरोध प्रदर्शन से पहले यहां एबीवीपी के स्टूडेंट्स पहुंचे और उन्होंने न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए यूनिवर्सिटी परिसर में दीप जलाए। साथ ही, मंदिर वहीं बनाएंगे के नारे लगाए। अब तक यूनिवर्सिटी में किसी तरतह के कोई हंगामे की खबर नहीं है।

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में पढऩे वाले छात्रों के एक धड़े को शनिवार को अयोध्या मसले पर सुप्रीम कोर्ट का निर्णय पसंद नहीं आया।

जेएनयू स्टूडेंट्स को नहीं भाया निर्णय
जेएनयू स्टूडेंट्स को नहीं भाया निर्णय

Related posts

रिया चक्रवर्ती की तस्वीर पर कॉमेंट करने से खुद को रोक न पाएं सुशांत

Publisher

रोजान सुबह खाली पेट एक्सर्साइज करने से दोगुनी तेजी से घटेगा मोटापा

Publisher

220 फिल्में करने के बाद भी टाइगर के बाप से पहचाना जाता हूं: जैकी श्रॉफ

Publisher

Leave a Comment