witnessindia
Image default
Law Politics Social World

जम्मू-कश्मीर में इस्लाम के खिलाफ था अनुच्छेद 35ए : शाहनवाज हुसैन

पटना (ईएमएस)। जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 35ए हटाए जाने को जायज ठहराते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता सैयद शाहनवाज़ हुसैन ने गुरुवार को ‘मुस्लिम बुद्धिजीवियों’ पर निशाना साधा और कहा कि अनुच्छेद 35 ए ‘इस्लाम के खिलाफ’ था। पूर्वी चंपारण जिला मुख्यालय मोतिहारी में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता हुसैन ने आरोप लगाया कि निरस्त संवैधानिक प्रावधान ने जम्मू-कश्मीर के बाहर के किसी व्यक्ति से शादी करने की स्थिति में पैतृक संपत्ति पर महिला के अधिकार को छीन लिया था, जो शरिया के खिलाफ था। उन्होंने कहा कि जो मुस्लिम बुद्धिजीवी जम्मू-कश्मीर को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार की कार्रवाई का विरोध कर रहे हैं और इसे हिंदू बनाम मुस्लिम मुद्दा बना रहे हैं, उनसे एक सवाल है कि क्या उन्हें लगता है कि अनुच्छेद 35 ए इस्लाम के शरिया कानून के अनुसार था। हुसैन ने कहा कि शरिया कानून के अनुसार एक बच्ची को उसके माता-पिता से विरासत में मिली संपत्ति पर उसके अधिकारों से वंचित नहीं किया जा सकता है। लेकिन अनुच्छेद 35ए ने उसे शर्तिया बना दिया था।

सैयद शाहनवाज़ हुसैन ने गुरुवार को ‘मुस्लिम बुद्धिजीवियों’ पर निशाना साधा और कहा कि अनुच्छेद 35 ए ‘इस्लाम के खिलाफ’ था।

Article 35A was against Islam in Jammu and Kashmir

निश्चित रूप से संविधान द्वारा प्रदत्त समानता के अधिकार के उल्लंघन के अलावा यह इस्लाम के उसूलों के खिलाफ था। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मुस्लिम बुद्धिजीवियों को इस मुद्दे पर आत्मनिरीक्षण करना चाहिए। पूरे देश में एनआरसी लागू करने के केंद्रीय मंत्री अमित शाह के बयान का बचाव करते हुए कि हुसैन ने पूछा कि लोगों को इससे क्या समस्या है। उन्होंने कहा कि दुनिया का कोई भी देश अवैध रूप से अपनी सीमाओं को पार करने वाले लोगों को बर्दाश्त नहीं करता है। हम भारत में अवैध आव्रजन की अनुमति देने की उम्मीद नहीं कर सकते हैं। भाजपा नेता ने अगले साल होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में मान्यता देने के मुद्दे पर अपनी पार्टी के राज्य स्तरीय नेताओं और जदयू के बीच हालिया विवाद को तूल नहीं देने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा अभी महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड में विधानसभा चुनावों की तैयारी में व्यस्त है और संबंधित राज्यों के मुख्यमंत्री पार्टी का चेहरा हैं। हुसैन ने कहा कि ऐसा पहली बार होने जा रहा है जब कोई अमेरिकी राष्ट्रपति अपनी धरती पर भारतीय प्रधानमंत्री के साथ मंच साझा करेंगे। यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नीत भारत के बढ़े हुए अंतरराष्ट्रीय दबदबे को दिखाता है। हमें इस पर गर्व होना चाहिए।

Related posts

टी20 सीरीज के लिए गुवाहाटी पहुंची श्रीलंका की क्रिकेट टीम

Publisher

एटीपी कप से नए सत्र की शुरुआत करेंगे, जोकोविच, नडाल और फेडरर

Publisher

मेट्रो के लिए 2020 तक यूरोपियन बैंक से फंड की उम्मीद भोज मेट्रो के लिए सबसे बड़ी चुनौती बना फंड

Publisher

Leave a Comment