witnessindia
Image default
Crime Law Politics Social World

गेस्ट हाउस कांड में बहुजन समाज पार्टी : मायावती ने वापस लिया केसशिवपाल

लखनऊ (ईएमएस)। यूपी की सियासत में पिछले तीन दशक के सबसे चर्चित गेस्ट हाउस कांड में बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) प्रमुख मायावती ने तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के खिलाफ कोर्ट में मुकदमा वापस ले लिया है। बता दें कि 2 जून 1995 को राजधानी के स्टेट गेस्ट हाउस में मायावती के साथ एसपी नेताओं ने कथित रूप से बदसलूकी की थी। मामले में मुलायम सिंह यादव, उनके भाई शिवपाल सिंह यादव, बेनी प्रसाद वर्मा और आजम खान सहित कई नेताओं के खिलाफ मायावती की ओर से हजरतगंज थाने में मुकदमा दर्ज करवाया गया था। बीएसपी के एक वरिष्ठ नेता ने केस वापसी की अर्जी दिए जाने की पुष्टि की है। सूत्रों का कहना है कि अर्जी केवल मुलायम के लिए ही दी गई है। बाकी नामों पर पहले का रुख कायम है। इस कांड के बाद मुलायम और मायावती के राजनीतिक संबंधों में जबरदस्त कड़वाहट आ गई थी।

शिवपाल, बेनी वर्मा और आजम के खिलाफ जारी रहेगा केस

गेस्ट हाउस कांडमें बहुजन समाज पार्टी
गेस्ट हाउस कांडमें बहुजन समाज पार्टी

गेस्ट हाउस में हुई थी बदसलूकी
1993 में एसपी-बीएसपी साथ चुनाव लड़े थे और तब इस गठबंधन ने अपनी सरकार भी बनाई थी। तत्कालीन एसपी मुखिया मुलायम सिंह यादव सीएम बने, लेकिन दो साल में ही इतनी खटास आ गई कि गठबंधन टूटने की नौबत आ गई। 2 जून 1995 को मायावती ने स्टेट गेस्ट हाउस में बीएसपी विधायकों की बैठक बुलाई। एसपी को भनक लगी कि बीएसपी गठबंधन तोडऩे जा रही है तो सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ एसपी नेताओं ने गेस्ट हाउस पर हमला कर दिया। इससे बचने के लिए मायावती ने खुद को कमरे में बंद कर लिया। आरोप है कि इस दौरान एसपी नेताओं ने दरवाजा तोड़ दिया और मायावती के साथ बदसलूकी हुई। उन्हें गाली-गलौज व जातिसूचक शब्द कहे गए। किसी तरह से मायावती वहां से बचकर निकल सकीं। अगले दिन ही उन्होंने बीजेपी की मदद से सरकार बनाई और खुद मुख्यमंत्री बनीं।

Related posts

सिर से जुड़े जुड़वां भाईयों को सर्जरी के दो वर्ष बाद एम्स से मिली छुट्टी

Publisher

राजधानी इंदौर में मैग्नीफिसेंट एमपी में करीब 800 उद्योगपति लेगें भाग

Publisher

पूर्व पीएम नवाज शरीफ की बेटी मरियम शरीफ को मिली जमानत

Publisher

Leave a Comment