witnessindia
Image default
Law Politics Social World

गृहमंत्री शाह आज करेंगे एससीओ संयुक्त शहरी भूकंप खोज अभ्यास का उद्घाटन

नई दिल्ली (ईएमएस)। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह 4 नवंबर, 2019 को नई दिल्ली के डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में शहरी भूकंप खोज एवं बचाव अभ्यास (एससीओजेटीईएक्स-2019) पर शंघाई सहयोग संगठन संयुक्त अभ्यास का उद्घाटन करेंगे। केंद्रीय गृह राज्यमंत्री, नित्यानंद राय 7 नवंबर, 2019 को होने वाले समापन समारोह के मुख्य अतिथि होंगे। भारत सरकार की पहल पर, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) सभी 8 शंघाई सहयोग संगठन देशों के साथ “शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) संयुक्त शहरी भूकंप खोज एवं बचाव अभ्यास (एससीओजेटीईएक्स-2019)” की मेजबानी कर रहा है। इस अभ्यास का उद्देश्य आपदा प्रतिक्रिया पूर्वाभ्यास, ज्ञान, अनुभव, तकनीकी को साझा करना और आपसी समन्वय बनाना है। यह अभ्यास भूकंप के परिदृश्य में बहु-एजेंसी संचालन से जुड़े समन्वय और सहयोग को बढ़ाने का अवसर भी प्रदान करेगा। इस 4 दिवसीय अभ्यास का आयोजन दिल्ली में 4 से 7 नवंबर, 2019 के दौरान किया जाएगा। इस अभ्यास में चीन, भारत, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, पाकिस्तान, रूस, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान सभी आठ सदस्य देश भाग लेंगे।

 केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह 4 नवंबर, 2019 को नई दिल्ली के डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में शहरी भूकंप खोज पर शंघाई सहयोग संगठन संयुक्त अभ्यास का उद्घाटन करेंगे।

गृहमंत्री शाह आज करेंगे एससीओ संयुक्त शहरी भूकंप खोज अभ्यास का उद्घाटन
गृहमंत्री शाह आज करेंगे एससीओ संयुक्त शहरी भूकंप खोज अभ्यास का उद्घाटन

अंतर्राष्ट्रीय खोज एवं बचाव सलाहकार समूह (आईएनएसएआरएजी) की कार्यप्रणाली और दिशानिर्देशों के अनुसार, इस चार दिवसीय अभ्यास का आयोजन किया जाएगा। शंघाई सहयोग संगठन सदस्य देशों के लिए एक संयुक्त शहरी भूकंप खोज और बचाव अभ्यास के आयोजन के पश्चात आपातकालीन स्थिति की रोकथाम और उन्मूलन हेतु उत्तरदायी मंत्रालयों के विशेषज्ञों की एक बैठक होगी। अभ्यास के दौरान, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर शहरी खोज और बचाव की भूमिका (यूएसएआर), आपातकालीन चिकित्सा दल (ईएमटी), मानतावादी प्रणाली/ द यूनाइटेड नेशंस डिजास्टर असेसमेंट एंड कोऑर्डिनेशन (यूएनडीएसी)/ आपातकाल प्रक्रिया और मूल्यांकन दल (ईआरएटी), स्थल पर अभियान सहयोग केन्द्र (ओएसओसीसी), आपातकाल संचालन केन्द्र की स्थापना (ईओसी), एकीकृत कमान पोस्ट (आईसीपी), प्रतिक्रिया समूह, स्थानीय आपातकाल प्रबंधन प्राधिकरण (एलईएमए) और समूह बैठकें, मानवतावादी नागर-सैन्य सहयोग (सीएम-कॉर्ड) जैसे विषयों पर सभी 8 सदस्य देशों के प्रतिनिधियों के बीच विचार-विमर्श और अभ्यास किया जाएगा।

Related posts

ऐतिहासिक राजा भोज ताल में म्यूजिकल फाउन्टेन व वॉटर स्क्रीन का लोकार्पण

Publisher

न्यूजीलैंड दौरा आसान नहीं होगा : उपकप्तान अजिंक्य रहाणे

Publisher

संसद सत्र से पहले पीएम मोदी की विपक्षी दलों से सकारात्मक सहयोग की अपील

Publisher

Leave a Comment