witnessindia
Image default
Business Economics Education Politics Social Tech World

गूगल ने एनआईटी में रिक्रूटमेंट की योजना को आगे नहीं बढ़ाया

नई दिल्ली (ईएमएस)। गूगल की इस साल नैशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलाजी से रिक्रूटमेंट करने करने की योजना आगे नहीं बढ़ सकी है। इसका कारण कंपनी का कैंपस इंटरव्यू के बाद कैंडिडेट्स पर फैसला करने के लिए कई सप्ताह का समय मांगना है। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलाजी में गूगल सबसे ज्यादा सैलरी ऑफर करने वाली कंपनी के तौर पर जानी जाती है। इस साल उसने तीन एनआईटी से फाइनल प्लेसमेंट सेशन में पहले दिन रिक्रूटमेंट करने के लिए संपर्क किया था। इनमें सूरतकल, त्रिची और वारंगल एनआईटी शामिल थे। फाइनल प्लेसमेंट सेशन पिछले महीने शुरू हुआ था।

कंपनी की इस वर्ष भी इंजिनियर्स को हायर करने की योजना है।


फाइनल प्लेसमेंट में हिस्सा लेने वाली कंपनियां आमतौर पर इंटरव्यू के दिन परिणाम की घोषणा कर देती हैं। इससे कैंडिडेट्स को अन्य कंपनियों के इंटरव्यू में हिस्सा लेने का मौका मिलता है।एनआईटी ने गूगल को इंटरव्यू लेने के कई दिनों बाद परिणाम घोषित करने की छूट देने से मना कर दिया।एनआईटी-त्रिची के प्लेसमेंट हेड ए के भक्तवत्सलम ने बताया,गूगल नतीजा बताने के लिए कुछ सप्ताह का समय मांग रही थी। ऐसा आईआईटी में नहीं होता तो यह एनआईटी में क्यों होना चाहिए।’ प्लेसमेंट ऑफिशल्स ने कहा कि अगर कंपनी किसी कैंडिडेट को हायर नहीं करने का फैसला करती है तो उसे अन्य बड़ी कंपनियों के रिक्रूटमेंट प्रॉसेस में शामिल होने का मौका भी नहीं मिलेगा।
भक्तवत्सलम ने कहा कि इंटरव्यू और परिणामों के बीच इतना अधिक अंतर नहीं होता।एनआईटी -त्रिची ने अपने प्लेसमेंट सेशन की शुरुआत अगस्त के मध्य में की थी और पहले दिन टॉप रिक्रूटर्स में ऐमजॉन, माइक्रोसॉफ्ट, गोल्डमैन सैक्स और ऊबर शामिल थीं। गूगल ने पिछले वर्ष आईआईटी सहित इंजिनियरिंग कॉलेजों में डोमेस्टिक प्लेसमेंट के लिए 25 लाख और विदेश में जॉब के लिए 2 करोड़ तक के पैकेज की पेशकश की थी। पैकेज में स्टॉक ऑप्शन, रिलोकेशन अलाउंस और जॉइनिंग बोनस शामिल है। कंपनी की इस वर्ष भी इंजिनियर्स को हायर करने की योजना है।

एनआईटी सूरतकल, त्रिची और वारंगल हायरिंग के लिए कंपनियों की पहली पसंद हैं


गूगल इंडिया की पीपल पार्टनर (टेक) जयश्री रामामूर्ति ने बताया,हमने पिछले वर्ष देश भर में इंजिनियरिंग इंस्टीट्यूट्स से हायरिंग की थी और हम इस वर्ष भी हायरिंग करने की योजना रखते हैं। किकस्टार्ट में सफल रहने वाले सभी कैंडिडेट्स को हम इंटरव्यू के लिए निमंत्रण देते हैं।’एनआईटी -सूरतकल के चेयरमैन (करियर डिवेलपमेंट सेंटर) विजय देसाई ने कहा, ‘गूगल फाइनल प्लेसमेंट के लिए आना चाहती थी लेकिन हम अपनी प्लेसमेंट पॉलिसी में कोई बदलाव नहीं करना चाहते थे। गूगल ने 2016 में आईआईटी से हायरिंग नहीं की थी।इसके बाद कंपनी 2018 में वापस रिक्रूटमेंट के लिए आईआईटी पहुंची थी।एनआईटी में प्लेसमेंट सेशन जुलाई-अगस्त में शुरू होता है। एनआईटी सूरतकल, त्रिची और वारंगल हायरिंग के लिए कंपनियों की पहली पसंद हैं।
आशीष/03 सिंतबर 2019

Related posts

कॉप-14 सम्मेलन : जलवायु परिवर्तन की बड़ी वजह मरुस्थलीकरण

Publisher

एसडीएम के प्रयास से लगा दिव्यांग जनों के लिये दिव्यांगता प्रमाणपत्र

Publisher

शांति सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था हेतु जिले में धारा 144 लागू

Publisher

Leave a Comment