witnessindia
Image default
Law Politics World

क्रेडिट लिंक्‍ड कैपिटल सब्सिडी योजना फिर से शुरू: मंत्री गडकरी

 

नई दिल्ली (ईएमएस)। सूक्ष्‍म, लघु और मध्‍यम उद्यम मंत्रालय द्वारा आयोजित एक राष्‍ट्रीय कार्यशाला को संबोधित करते हुए, केद्रीय सूक्ष्‍म, लघु और मध्‍यम उद्यम मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि सूक्ष्‍म, लघु और मध्‍यम उद्यमों (एमएसएमई) के लिए भुगतान नहीं होने अथवा भुगतान में देरी होने के मामले का समुचित समाधान किया जाएगा। गडकरी ने एमएसएमई क्षेत्र की पुरानी समस्‍याओं के समाधान की दिशा में सरकार की प्रतिबद्धता दोहराते हुए कहा कि इसे आवश्‍यक सहायता दी जाएगी, ताकि सकल घरेलू उत्‍पाद में अपने योगदान तथा रोजगार सृजन के रूप में यह अपनी पूरी संभावनाओं को पूरा कर सके। एमएसएमई क्षेत्र के लिए भुगतान में देरी की समस्‍या और उसके समाधान के उपायों के बारे में विचार-विमर्श किया। यह कार्यशाला आयोजित की गई है। गडकरी ने कहा कि वित्‍त मंत्रालय ने हाल में इस क्षेत्र के लिए कई कदम उठाए हैं, जिनसे इसे मजबूत करने में काफी मदद मिलेगी। गडकरी ने कहा कि यूके सिन्‍हा समिति के सुझावों को शीघ्र लागू किया जाएगा।

गडकरी ने कहा कि वित्‍त मंत्रालय ने हाल में इस क्षेत्र के लिए कई कदम उठाए हैं, जिनसे इसे मजबूत करने में काफी मदद मिलेगी।

Gadkari

गडकरी ने कहा कि वे एमएसएमई समाधान पोर्टल का इस्‍तेमाल करें ताकि उन्‍हें जानबूझकर गलती करने वाले लोगों के बारे में आंकड़े जुटाने, स्‍टॉक एक्‍सचेंजों पर खुद को पंजीकृत कराने में मदद मिले। उन्‍होंने कहा कि उनके उत्‍पादों के विपणन के लिए शीघ्र ही ‘भारत क्राफ्ट’ नामक एक विपणन पोर्टल शुरू किया जाएगा। एमएसएमई मंत्रालय में सचिव अरुण कुमार पांडा ने हितधारकों को आश्‍वस्‍त किया कि मंत्रालय द्वारा उनके सुझावों और समस्‍याओं पर ध्‍यान दिया जाएगा। इस अवसर पर नितिन गडकरी ने क्रेडिट लिंक्‍ड कैपिटल सब्सिडी (सीएलसीएस) वेब पोर्टल को फिर से शुरू किया। सीएलसीएस एक योजना है, जिसके तहत एमएसएमई द्वारा प्रौद्योगिकी उन्‍नयन के लिए अधिकतम एक करोड़ रुपये तक अतिरिक्‍त निवेश के लिए 15 प्रतिशत सब्सिडी दी जाती है। फिर से शुरू की गई योजना के तहत, अनसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के उद्यमियों के लिए 10 प्रतिशत अतिरिक्‍त सब्सिडी दी जाती है।

Related posts

बनासकांठा का गुजरात के बॉर्डर पर नाडेश्वरी माता का मंदिर है आस्था का केन्द्र

Publisher

पड़ोसी देशों के धार्मिक अल्पसंख्यकों को आश्रय देना भारत की जिम्मेदारी

Publisher

दो दिन के हंगामे के बाद बुधवार को शांति से चला प्रश्नकाल

Publisher

Leave a Comment