witnessindia
Image default
Economics Social World

कच्चे तेल में आई नरमी, 2 दिन बाद फिर घटे पेट्रोल-डीजल के दाम

नई दिल्‍ली (ईएमएस)। अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में कच्‍चे तेल के दामों में कमी आई हैं। इसकारण पेट्रोल और डीजल के दाम में मामूली कटौती देखने को मिली है। मंगलवार को देश के चार प्रमुख महानगर-दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, चेन्नई में पेट्रोल और डीजल के दाम 5 पैसे प्रति लीटर कम हो गए। इसके पहले दो दिनों तक पेट्रोल और डीजल के भाव में कोई बदलाव नहीं किया गया था। इंडियन ऑयल की वेबसाइट के मुताबिक दिल्ली, कोलकता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल के दाम घटकर क्रमश: 73.27 रुपये, 75.92 रुपये, 78.88 रुपये और 76.09 रुपये प्रति लीटर हो गए हैं। चारों महानगरों में डीजल के दाम भी घटकर क्रमश: 66.41 रुपये, 68.77 रुपये, 69.61 रुपये और 70.15 रुपये प्रति लीटर हो चुके हैं। बता दें कि अमेरिका और चीन के बीच आंशिक व्यापार करार के बीच में अटकने की आशंकाओं के बीच अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में नरमी का रुख बना हुआ है।

अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में कच्‍चे तेल के दामों में कमी आई हैं।

कच्चे तेल में आई नरमी, 2 दिन बाद फिर घटे पेट्रोल-डीजल के दाम
कच्चे तेल में आई नरमी, 2 दिन बाद फिर घटे पेट्रोल-डीजल के दाम

इस बीच, देश में पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में आने की चर्चा एक बार फिर शुरू हो गई है। दरअसल, हाल ही में केंद्रीय पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस एवं इस्पात मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण से पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के दायरे में लाने की अपील की। उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री (नरेंद्र मोदी) के निर्णायक नेतृत्व में दो साल पहले ऐतिहासिक कर सुधार के रूप में जीएसटी व्यवस्था शुरू की गई थी, लेकिन पेट्रोलियम क्षेत्र की जटिलता तथा इस क्षेत्र में राज्य सरकारों की राजस्व निर्भरता को देखकर पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया। अब पेट्रोलियम उद्योग की ओर से इस जीएसटी के दायरे में लाने की लगातार मांग की जा रही है। धर्मेंद्र प्रधान के इस बयान के बाद पेट्रोल और डीजल के जीएसटी स्‍लैब में आने की उम्‍मीद बढ़ गई है।

Related posts

समाज पर निर्णायक सजा कम या ज्यादा नहीं, वाजिब हो: सुप्रीम कोर्ट

Publisher

तारक मेहता का उल्टा चश्मा, में लौटेंगी दयाबेन – सितंबर 2017 से नहीं दिखी शो में

Publisher

‘मरजावां’ के अपने किरदार में जान डालने ‘बार’ जाती थीं रकुल प्रीत सिंह

Publisher

Leave a Comment