witnessindia
Image default
health Lifestyle Social World

रेड वाइन प्रेमियों को रोज का एक पैग कैंसर की तरफ धकेल सकता है

वाशिंगटन (ईएमएस)। एक रिसर्च में सामने आया है ‎कि रेड वाइन प्रेमियों को रोज का एक पैग लेने से कैंसर सेल्स बॉडी में पनप नहीं पाती हैं। इसलिए एक पैग में कोई बुराई नहीं। लेकिन वहीं एक ताजा रिसर्च में साबित हुआ है कि अगर आप डेली बेसिस पर एक पैग लेते हैं तो यह आपके अंदर कैंसर सेल्स की ग्रोथ को रोकने की जगह बढ़ाने वाला हो सकता है। दरअसल, जापान में हुई इस स्टडी में शोधकर्ताओं ने अपनी बात को कई रिजल्ट्स के साथ सबके सामने रखा है। बताया गया ‎कि जर्नल कैंसर में पब्लिश हुई यह स्टडी जापान के कई हॉस्पिटल से एकत्र किए गए डेटा पर आधारित है। बताया गया ‎कि इस स्टडी के दौरान 63 हजार 232 लोगों की ड्रिंकिंग हेबिट को ऑब्जर्व कर उनमें होने वाले शारीरिक बदलावों को कंपेयर किया गया।

रेड वाइन प्रेमियों को रोज का एक पैग लेने से कैंसर सेल्स बॉडी में पनप नहीं पाती हैं।

रोज का एक वाइन पैग कैंसर की तरफ धकेल सकता है
रोज का एक वाइन पैग कैंसर की तरफ धकेल सकता है

वहीं शोधकर्ताओं ने पाया कि जो लोग पिछले 10 साल से हर रोज रात को एक पैग लेते हैं और जो लोग पिछले 5 साल से हर रात को दो पैग लेते हैं, उनमें कैंसर होने का रिस्क समान लेवल पर होता है। इन लोगों में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसर, ब्रेस्ट और प्रोस्टेट कैंसर होने का खतरा कहीं अधिक होता है। हालांकि इस स्टडी में इस बात का खुलासा नहीं किया गया है कि अल्कोहल से कैंसर का रिस्क कैसे बढ़ता है। वहीं रिसर्चर्स द्वारा प्राप्त डेटा के आधार पर इसकी वजह हॉर्मोन्स में होने वाला बदलाव हो सकता है। नैशनल कैंसर इंस्टिट्यूड ने बताया ‎कि सायंटिस्ट्स अभी इस दिशा में काम कर रहे हैं कि आखिर वाइन से बढ़ते कैंसर के खतरे का मैकेनिज़म क्या है? किन बदलावों के कारण ऐसी परिस्थितियां निर्मित होती हैं।

Related posts

सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश का मामला सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी बेंच को भेजा

Publisher

अगली फिल्म में जाह्नवी कपूर को ले सकती है एकता कपूर ?

Publisher

निचली अदालत के जजों पर तीखी टिप्पणी न करें

Publisher

Leave a Comment