witnessindia
Image default
Social World

ऋणमाफी एवं अतिवृष्टि सहायता को लेकर भाजपा कांग्रेस आमने-सामने

अशोकनगर (ईएमएस)। जिले के किसानों की बदतर हालत को लेकर सोमवार को कांग्रेस एवं भाजपा पार्टी आमने-सामने दिखीं। कांग्रेस पार्टी कार्यकर्ताओ द्वारा जहां भाजपा की केन्द्र सरकार पर राष्ट्रीय सहायता कोष से राज्य की सहयता नहीं किय जाने के आरोप लगाये गये, तो वहीं भाजपा पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा किसान आक्रोश रैली निकालकर प्रदेश सरकार की बादाखिलाफी के खिलाफ कलेक्ट्रेट का घेराव किया गया। केन्द्र में बैठी भाजपा सरकार द्वारा राष्ट्रीय आपदा कोष से राज्य सरकार की सहायता नहीं किये जाने को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओ द्वारा अस्पताल तिराहे से कलेक्ट्रेट तक रैली निकालकर राष्ट्रपति के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा गया। सोमवार सुबह 11 बजे बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता अस्पताल चौराहे पर एकत्रित हुये। कांग्रेसियो द्वारा केन्द्र की भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुये बताया गया कि केन्द्र सरकार प्रदेश के किसानों से हार का बदला ले रही है। वीते दिनो मध्यप्रदेश ने अति वर्षा एवं वाड से भीषण आपदा का सामना किया किसानों की फसलें वरवाद हुई है। आपदा में पूरे मध्यप्रदेश के 52 जिलो में से 39 जिलों की 284 तहसीलें प्रभावित हुये हैं। ज्ञापन में बताया कि प्रदेश के किसानों की लगभग 60.47 लाख हेक्टेयर की 16270 करोड़ रुपया की फसलें बर्बाद हुई हैं। और 1 लाख 20 हजार घरो को क्षति पहुंची है। वहीं 674 नागरिको को प्राण गवाने पड़े हैं। साथ ही 11 हजार किमी की सडक़ों का नुकसान हुआ है, एह हजार से अधिक पुल-पुलियें क्षतिग्रस्त हुई हैं। 19735 स्कूल बिल्डिंगें, छात्रावास, स्वास्थ्य केन्द्र, आगनबाडिय़ों को इस प्राकर्तिक आपदा से नुकसान पहुंचा है।

कांग्रेस ने राष्ट्रपति के नाम सौंपा ज्ञापन, तो भाजपा ने किया कलेक्ट्रेट का घेराव

-केन्द्र से नहीं मिली राहत:
कांग्रेसियों द्वारा बताया गया कि प्रदेश सरकार को भाजपा की केन्द्र सरकार द्वारा राहत का अंश नहीं दिया जा रहा है। जबकि राज्य भी राज्य पर जब प्राकर्तिक आपदा आती है, तो केन्द्र सरकार का दायित्व होता है कि वह राष्ट्रीय आपदा कोष से राज्य की सहायता करें। कांग्रेस सरकार द्वारा भाजपा की केन्द्र सरकार से 6621.28 करोड़ रुपया की मांग की गई मगर दुर्भाग्यपूर्ण वात यह है कि केन्द्र सरकार द्वारा राहत के प्रतिवेदन पर आज दिनांक तक राष्ट्रीय आपदा कोष से एक भी पैसा नहीं दिया गया है। जबकि मध्यप्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश के नागरिको को अब तक 200 करोड़ रुपया की राशि वितरित कर दी गई है तथा 270 करोड़ रुपया जहां किसानों की फसलें ज्यादा प्रभावित हुई हैं वितरित कर दिये गये हैं। कांग्रेसियो ने आरोप लगाया कि प्रदेश में 28 सांसद भाजपा के जीते हैं जिनके द्वारा केन्द्र सरकार से अनुरोध तक नहीं किया गया जिससे की मध्यप्रदेश की जनता को राहत राशि मिल सके। ज्ञापन के माध्यम से कांग्रेस पार्टी द्वारा राष्ट्रपति से मांग की गई है कि जनहित को ध्यान में रखते हुये केन्द्र सरकार द्वारा राहत राशि उपलब्ध कराई जाये, जिससे मध्यप्रदेश में आपदा से पीढि़त किसानो को राहत दी जा सके। ज्ञापन सौंपने वालो में अशोकनगर विधायक जजपाल सिंह जज्जी, मुंगावली विधायक ब्रजेन्द्र सिंह यादव, ब्लॉक अध्यक्ष मनोज शर्मा, प्रेमनारायण कक्कू, नारायण प्रसाद शर्मा, लाखन सिंह रघुवंशी, सुधीर रघुवंशी, आनन्द शर्मा मडख़ेड़ा, हरीओम नायक आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

ऋणमाफी एवं अतिवृष्टि सहायता को लेकर भाजपा कांग्रेस आमने-सामने
ऋणमाफी एवं अतिवृष्टि सहायता को लेकर भाजपा कांग्रेस आमने-सामने

-भाजपा ने किया किसान आक्रोश आंदोलन:
भारतीय जनता पार्टी द्वारा प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर बादाखिलाफी का आरोप लगाते हुये किसान आक्रोश आंदोलन किया गया। आंदोलन की शुरुआत गांधी पार्क पर धरना प्रदर्शन के साथ हुई। भारतीय जनतापार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष एवं नरयावली विधायक प्रदीप लारिया किसान आक्रोश आंदोलन को संबोधित करते हुए कहा कि इस आंदोलन से हम प्रदेश की कांग्रेस सरकार को हम चेताना चाहते हैं कि एक साल पहले झूठ-फरेव के आधार पर यह सरकार बनी है, यह कमलनाथ की सरकार नहीं बल्कि कपटनाथ की सरकार है। आंदोलन को लेकर दोपहर 12 बजे से गांधी पार्क चौराहे पर बड़ी संख्या में भाजपा पदाधिकारी, कार्यकर्ताओं धरना दिया। तत्पश्चात गांधी पार्क से अस्पताल चौराहे होते हुए आंदोलन रैली कलेक्ट्रेट में घेराव करने पहुंची। जहां कलेक्ट्रेट का घेराव करते हुए भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष लारिया एवं भाजपा जिलाध्यक्ष धर्मेन्द्र रघुवंशी ने बढ़े हुए बिजली के बिलों की होली जलाई। प्रदेश उपाध्यक्ष लारिया ने कहा कि इस कपटनाथ सरकार ने चुनावों से पूर्व 86 पेज का वचन पत्र जारी किया था, जिसमें एक नम्बर पर किसानों का कर्जा माफ करने का वचन था। उन्होंने कहा कि अब कहां है राहुल गांधी जिन्होंने कहा था कि किसानों का कर्जा माफ नहीं हुआ तो हम 10 दिन में मुख्यमंत्री हटा देंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश की भोली-भाली जनता को गुमराह कर कांग्रेस ने यह सरकार बनाई है। किसानों के साथ छलावा किया गया है। कमलनाथ ने किसानों के साथ छलावा करने का बढ़ा पाप किया है। भाजपा जिलाध्यक्ष धर्मेन्द्र रघुवंशी ने कहा कि कांग्रेस सरकार और उसकी नौकरशाही केवल तबादला करने का काम कर रही है। जिले में पुलिस कर्मचारियों के तबादला कर भारी भ्रष्टाचार किया जा रहा है। इस अवसर पर कार्यक्रम प्रभारी प्रतापभान सिंह रातिखेड़ा, अभीषेक शर्मा, सचिन शर्मा, सीताराम रघुवंशी शाढ़ौरा, हरवीर रघुवंशी, डॉ. जयमण्डल यादव, अनूप सिंह रघुवंशी नईसरायं आदि उपस्थित रहे।

Related posts

मोहम्मद कलीमउद्दीन आतंकी संगठन अलकायदा संगठन के संपर्क में रहकर जेहाद

Publisher

कट से उबारने आईडीबीआई बैंक को केंद्र सरकार देगी 9 हजार 296 करोड़ रुपए का पैकेज

Publisher

संसद का शीतकालीन सत्र 18 नवंबर से 24 दिसंबर के बीच : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

Publisher

Leave a Comment