witnessindia
Image default
Education Tech World

इंटरनेट के कारण 12 फ़ीसदी छात्र भारी तनाव में

नई दिल्ली (ईएमएस) । अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ने हाल ही में इंटरनेट का असर छात्रों पर किस तरह से पड़ा है, इसका अध्ययन किया है। भारत सहित 8 देशों में किए गए, इस अध्ययन में 2643 छात्रों का परीक्षण किया गया। इसकी रिपोर्ट अंतर्राष्ट्रीय मेडिकल जनरल एशियन जनरल आफ साइकेट्री में प्रकाशित हुई है।
एम्स के मनोचिकित्सा विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉक्टर यतन पाल सिंह ने जानकारी देते हुए कहा, कि दुनिया भर में इंटरनेट का उपयोग बड़ी तेजी के साथ बढ़ रहा है। हर जरूरी चीज के लिए इंटरनेट का सहारा लेना पड़ता है। लेकिन इसका असर लोगों के व्यवहार पर पड़ रहा है। इसको जानने के लिए वैश्विक स्तर पर अध्ययन किया गया था।

हर जरूरी चीज के लिए इंटरनेट का सहारा लेना पड़ता है।

heavy stressइस अध्ययन में भारत, बांग्लादेश, नेपाल, संयुक्त अरब अमीरात, तुर्की, क्रोएशिया, सर्विया और वियतनाम के कॉलेजों के 2643 छात्रों को शामिल किया गया था। इस अध्ययन के निष्कर्ष में यह खुलासा हुआ है, कि कॉलेजों में पढ़ने वाले 12.2 फ़ीसदी छात्र इंटरनेट के कारण मानसिक अवसाद और तनाव से गुजर रहे हैं। इसके पहले यह माना जा रहा था, कि इंटरनेट की लत से छोटे बच्चे और स्कूली छात्र ही प्रभावित हो रहे हैं। लेकिन इस निष्कर्ष के बाद यह खुलासा हुआ है, कि कॉलेज के छात्र भी इंटरनेट के अवसाद से बुरी तरह प्रभावित हैं।

Related posts

कनाडाई एथलीट ऑफ द ईयर बनने से उत्साहित बियांका आंद्रेस्क्यू

Publisher

देश के 47 वें सीजेआई के रुप में 18 को शपथ लेंगे जस्टिस बोबड़े

Publisher

रामलीला मैदान में 22 को रैली से मोदी शुरू करेंगे चुनाव प्रचार

Publisher

Leave a Comment