witnessindia
Image default
Law Politics Social World

अनुच्छेद-370 पर वीडियो में भाजपा ने नेहरू की ‘ऐतिहासिक गलती’ पर साधा निशाना

नई दिल्ली (ईएमएस)। भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने आर्टिकल 370 और 35ए हटाने का एक महीना पूरा होने पर इसी विषय पर केंद्रित एक शॉर्ट फिल्म का प्रदर्शन किया है। इस फिल्म में जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने और उसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित किए जाने का जिक्र किया गया है। यह विडियो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लाल किले पर दिए गए भाषण से शुरू होता है, जिसमें वह कहते हैं कि यदि ये अनुच्छेद सूबे के विकास के लिए इतने ही महत्वपूर्ण थे, तो फिर इन्हें स्थाई दर्जा क्यों नहीं दिया गया। यही नहीं विडियो का समापन भी प्रधानमंत्री मोदी के राष्ट्र के नाम दिए गए संबोधन से ही होता है।

भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने आर्टिकल 370 और 35ए हटाने का एक महीना पूरा होने पर इसी विषय पर केंद्रित एक शॉर्ट फिल्म का प्रदर्शन किया है।

 

Pandit jawaharlal nehru

11 मिनट के इस विडियो में देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू पर भी निशाना साधा है। यही नहीं कश्मीर की स्थिति के लिए उनकी ‘ऐतिहासिक गलती’ को जिम्मेदार ठहराया गया है। विडियो के मुताबिक आर्टिकल 370 पर उस वक्त बीआर आंबेडकर और सरदार वल्लभ भाई पटेल ने सरकार के फैसले का विरोध किया था। भाजपा ने कहा कि पटेल ने उस समय 562 रियासतों को भारत में शांतिपूर्ण ढंग से विलय किया था, लेकिन कश्मीर के मसले को नेहरू ने खुद हैंडल किया। भाजपा ने दावा किया कि कश्मीर पर मसले पर संयुक्त राष्ट्र जाकर नेहरू ने बड़ी ऐतिहासिक भूल की थी। इसके अलावा फिर राज्य को स्पेशल स्टेटस देकर दूसरी गलती की, जिसका उस समय के कांग्रेस नेताओं ने भी विरोध किया था। विडियो में दिखाया गया है कि उस समय डॉ। आंबेडकर ने नेहरू से कहा था अनुच्छेद 370 को देश के साथ विश्वासघात करने की तरह बताया था। इस अनुच्छेद के ड्राफ्ट को उन्होंने खारिज कर दिया था। विडियो में होम मिनिस्टर अमित शाह की ओर से संसद में दिए गए आर्टिकल 370 हटाए जाने के बयान का भी जिक्र किया गया है।

Related posts

राजद्रोह के मामले मे परवेज मुशर्रफ को विशेष कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा

Publisher

जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370: याचिकाओं पर सुनवाई

Publisher

संघ प्रमुख भागवत के ‘हिंदू राष्ट्र’ वाले बयान से सहमत नहीं मायावती

Publisher

Leave a Comment