witnessindia
Image default
health Lifestyle Social World

अक्सर खुद पर चुटकले कहने वाले हंसने वाले रहते है स्वस्थ्य

नई दिल्ली (ईएमएस)। अक्सर खुद पर चुटकले कहने वाले लोगों और खुद पर हंसने वालों के मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य का स्तर काफी अच्छा होता है। एक अध्ययन में यह दावा किया गया है। यह अध्ययन हास्य विनोद के मनोविज्ञान पर पहले आए अध्ययनों का विरोधाभासी है। दरअसल, अब तक कई सारे अध्ययनों में यह कहा गया था कि खुद पर चुटकले कहना लोगों के बीच नकारात्मक मनोवैज्ञानिक प्रभावों से विशेष रूप से संबद्ध है जो हमेशा ही इस शैली का इस्तेमाल करते हैं। स्पेन के ग्रनादा यूनिवर्सिटी के जॉर्ज टोर मरीन ने बताया, ‘खुद पर चुटकले कहने की कहीं अधिक प्रवृत्ति मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य के आयाम जैसे- खुशी और सामाजिकता के अच्छा होने का संकेत है।

खुद पर हंसने वालों के मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य का स्तर काफी अच्छा होता है।

खुद पर हंसने वाले रहते है स्वस्थ्य
खुद पर हंसने वाले रहते है स्वस्थ्य

हमारा मानना है कि इस तरह के हास्य के इस्तेमाल में संभावित सांस्कृतिक अंतरों को लक्षित नये अध्ययन करना जरूरी है।’ मरीन आगे कहते हैं, ‘इस अध्ययन के नतीजे अविरोधी हैं जो बताते हैं कि हमारे देश में खुद पर हंसना पारंपरिक रूप से सकारात्मक संकेत का उत्तरदायी है। हालांकि अध्ययन के नतीजे इस बात की ओर भी इशारे करते हैं कि खुद पर हंसने को लेकर की गई रिसर्च कहां पर हुई है, इसको लेकर भी नतीजे में बदलाव हो सकता है।’

Related posts

पाक ने मसूद को चोरी-छुपे किया जेल से रिहा

Publisher

जनाधिकार पार्टी के कार्यकर्ता ने अश्विनी चौबे पर फेंकी स्याही

Publisher

मेहनत और नसीब में विश्वास, ज्योतिष में नहीं: कियारा अडवाणी

Publisher

Leave a Comment